गुर्दे की पथरी के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज व बचाव के घरेलू उपाय | Kidney Stone Types, Symptoms, Causes, Treatment, Prevention and Home Remedies

1
गुर्दे की पथरी अथवा किडनी स्टोन (Kidney Stone), यह मिनरल्स और नमक से बना एक ठोस जमावट होती है जो रेत के दाने से लेकर गोल्फ की गेंद जितना बड़ा हो सकता है। यह एक क्रिस्टलीय खनिज पदार्थ है जो मूत्र मार्ग में कहीं भी जमा हो सकता है कई बार यह पत्थर बिना किसी लक्षण के मूत्र मार्ग के साथ बाहर निकल जाता है। परंतु कई बार अगर किडनी स्टोन 5 एमएम से ज्यादा का हो तो यह मूत्र मार्ग में रुकावट पैदा करता है और दर्द, उल्टी जैसे कई समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। गुर्दे की पथरी यानी किडनी स्टोन को नेफ्रोलिथीआरिस (Nephrolithiasis)  भी कहते हैं। गुर्दे की पथरी से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में कई प्रकार के लक्षण दिखते हैं इन लक्षणों को ज्यादा समय तक नजरअंदाज करना काफी नुकसानदेह हो सकता है। पथरी गुर्दे, मूत्र वाहिनी, मूत्राशय आदि में हो सकता है। परंतु इन सब में किडनी स्टोन सबसे ज्यादा दर्दनाक होता है ।
इसके लिए इसलिए आज हम बात कर रहे हैं गुर्दे की पथरी होने के कारण लक्षण और इसके उपाय के बारे में।
 

Table of Contents

भारत में गुर्दे की पथरी की स्थिति Kidney Stone Status in India

एक सर्वे के अनुसार भारत की कुल आबादी का 15% आबादी गुर्दे की पथरी से ग्रसित है इनमें से लगभग आधे लोगो का गुर्दा इस बीमारी से क्षतिग्रस्त हो जाता है। महिलाओं के मुकाबले पुरुषों में यह समस्या अधिक है।

 
 

किडनी स्टोन के प्रकार – Types of Kidney Stone 

किडनी स्टोन को उसके तत्व के हिसाब से चार प्रकारों में बांटा गया है:-
 

1. कैल्शियम स्टोन – Calcium Stone :-

गुर्दे की पथरी में अधिकांशतः कैल्शियम स्टोन ही होता है यह आमतौर पर कैल्शियम ऑक्सलेट की वजह से बनता है ऑक्सलेट एक प्राकृतिक पदार्थ है जो हमारे भोजन में पाया जाता है और इसके साथ हमारे लीवर के द्वारा भी इसका निर्माण किया जाता है आलू मूंगफली आदि में  कैल्शियम ऑक्सलेट उच्च मात्रा में होता है।

2. यूरिक एसिड स्टोन Uric acid stone :-

इस प्रकार की पथरी महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक होती है। यह स्टोन ऐसे लोगों में अधिक होता है जो अपनी दिनचर्या में पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन नही करते हैं या फिर ऐसे लोगों को यह प्रॉब्लम सबसे ज्यादा होती है जिनके पेशाब में एसिड की मात्रा अधिक होती है।

 
 

3. स्ट्रूवाइट स्टोन – Struvite Stone :-

गुर्दे की पथरी में इस प्रकार की पथरी ज्यादातर महिलाओं में पाई जाती है इसका मूल कारण मूत्र मार्ग में संक्रमण होता है जब यह स्टोन बड़ा हो जाता है तो मूत्र निर्वाह में बाधा उत्पन्न करता है और यह स्टोन गुर्दे के संक्रमण के कारण से होता है शुरुआत में संक्रमण का इलाज करके इसको रोक सकते हैं।

 

4. सिक्टिन स्टोन – Cystine Stones :-

इस प्रकार की पथरी के होने के चांसेस बहुत कम होते हैं यह सिर्फ पुरुषों या महिलाओं में होता है जिन्हें किसी अनुवांशिक रूप से यह विकार उत्पन्न होता है इस प्रकार की पथरी एक ऐसे प्रकार के एसिड से बनती है जो एसिड स्वाभाविक रूप से मनुष्य के शरीर में होता है।
 

किडनी स्टोन के लक्षण – Symptoms of Kidney Stone

गुर्दे में पथरी होने के काफी समय बाद इन लक्षण का पता चलता है  कई बार तो छोटी पथरी बनकर मूत्रमार्ग से निकल भी जाती है और किसी भी तरह की कोई समस्या नहीं होती है। जब बड़ी पथरी बन जाती है तो वह मूत्रमार्ग को रोकती है और उसके बाद में ही इसके लक्षण हमें महसूस होना शुरू होता है तो आइए जानते हैं इसके लक्षण के बारे में :- 

1. पेशाब करते समय दर्द होना – Pain while urinating :-

गुर्दे की पथरी होने का यह एक सामान्य लक्षण है ऐसे में मूत्र प्रवाहित करते समय दर्द होता है और साथ में टीस भी होती है।

 

2. बार-बार पेशाब की शंका होना – Frequent Urination :-

गुर्दे की पथरी में ग्रसित व्यक्ति को बार-बार पेशाब लगता है। इससे में अल्ट्रासाउंड करके ही किसके बारे में सुनिश्चित किया जा सकता है। बार बार पेशाब आना सिर्फ गुर्दे की पथरी का ही लक्षण नहीं है इसका संबंध अन्य बीमारियों से भी हो सकता है।

 
 

3. उल्टी आना – Vomiting :-

अधिकांशतः  यह देखा गया है कि गुर्दे की पथरी से ग्रसित व्यक्ति को उल्टी आना, जी मिचलाना, खाना खाने का दिल ना करना जैसे सामान्य लक्षण दिखाई देते हैं।

4. कमर में दर्द होना – Backache :-

गुर्दे की पथरी से पीड़ित व्यक्ति को कमर में ऐसे में दर्द होता रहता है यह दर्द बार-बार हर थोड़ी देर में होता रहता है एक सर्वे के अनुसार पीठ और कमर में नियमित रूप से अगर दर्द होता है तो किडनी में इंफेक्शन या पथरी की संभावना सबसे ज्यादा होती है कमर व पीठ दर्द को नजरअंदाज ना करते हुए डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। 

5. पेशाब का रुक रुक कर आना – Problem in Urination :-

किडनी स्टोन में कई बार पथरी मूत्र मार्ग में अवरोध बन जाती है जिससे पेशाब की शंका होते हुए भी पेशाब  नहीं निकल पाता ऐसे में डॉक्टर की सहायता तुरंत लेनी चाहिए।

 

इसके अलावा कई अन्य लक्षण भी है जैसे ठंड लगना, बुखार होना ,पेशाब में खून आना अचानक से असहनीय दर्द हो जाना आदि।

 

किडनी स्टोन होने के कारण – Causes of Kidney Stones

हमारे शरीर में कोई भी बीमारी बिना किसी कारण के नहीं होती है पथरी रोग भी कई कारणों से हो सकता है जिसके बारे में हम सबको पता होना चाहिए इस रोग से संबंधित मुख्य कारण निम्न है :-

1. अनुवांशिकता – Heredity :-

गुर्दे की पथरी अनुवांशिक कारण से भी हो सकती है ज्यादातर गुर्दे की पथरी कैल्शियम के अधिक स्तर होने से होती है यह अनुवांशिक कारण हो सकता है।

2. आहार – Diet :-

यदि कोई व्यक्ति अपने आहार में अधिक मात्रा में नमक ग्लूकोज प्रोटीन का सेवन करता है तो उसके गुर्दे में पथरी होने के चांसेस बहुत ज्यादा बढ़ जाते हैं। 

 
 

3. थाइरोइड – Thyroid :-

गुर्दे की पथरी किसी अन्य बीमारी की वजह से भी हो सकती है उनमें से थायराइड का है। थायराइड की वजह से डाइजेशन मूत्र की निकासी आदि प्रभावित होती है जिसकी वजह से गुर्दे में पथरी होने की संभावना अधिक हो जाती है।

 

4. शरीर का अधिक वजन होना – Excess Body Weight :-

अधिक वजन खुद एक समस्या होते हुए भी यह अपने साथ बहुत सारी अन्य बीमारियों को भी न्योता देता है इसलिए वजन नियंत्रित करके आप गुर्दे की पथरी की संभावना को कम कर सकते हैं।

 

5. डिहाइड्रेशन का होना – Dehydration :- 

हमारे शरीर को पर्याप्त मात्र में पानी चाहिए। क्योंकि पानी ही हमारे शरीर के अशुद्ध पदार्थों को अपने साथ पेशाब के रूप में शरीर से बाहर निकाल कर हमारे शरीर को फिल्टर करता है अगर शरीर में पानी की कमी रहेगी तो अनावश्यक तत्व व अशुद्ध पदार्थ हमारे शरीर से बाहर नहीं निकल पाएंगे और वह हमारे किडनी में जमने लग  जाते हैं जो आगे जाकर स्टोन का रूप धारण कर लेता है इसलिए डिहाइड्रेशन एक मुख्य कारण है किडनी स्टोन होने का।

 
 

किडनी स्टोन से बचाव व  रोकथाम – Kidney Stone Prevention

1. अधिक मात्रा में पानी पिए – Drink Plenty of Water :-

जैसे कि ऊपर बताया गया है कि किडनी स्टोन होने का सबसे प्रमुख कारण कम पानी पीना है इसलिए किडनी स्टोन की समस्या से बचने के लिए कितना पानी पीना चाहिए जिससे दिन भर में कम से कम 2 से ढाई लीटर पेशाब आए।

 

2. फ्रूट जूस पीएं – Drink Fruit Juice :-

यदि किसी के लिए ज्यादा पानी पीना संभव नहीं होता है तो वह फ्रूट जूस भी पी सकता है फ्रूट जूस के माध्यम से शरीर में पानी की कमी दूर होगी और पेशाब भी खुलकर आता है।
 
 

3. भोजन में नमक को कम करना – Reducing Salt in Food :-

गुर्दे की पथरी अधिक मात्रा में नमक के सेवन से हो जाती है अतः भोजन में कम नमक का सेवन करना चाहिए जिससे किडनी स्टोन की संभावना ना रहे।
 

4. बीज वाली सब्जी से परहेज करें – Avoid Seeded Vegetables :-

किडनी स्टोन से पीड़ित व्यक्ति को अपने भोजन में ऐसा कोई फ्रूट या सब्जी नहीं खानी चाहिए जिसमें वह बीज साथ में खाना पड़े क्योंकि अधिकांश सब्जी व फलों के बीज  हमारा शरीर डाइजेस्ट नहीं कर पाता है और वह बीज किडनी में स्टोन का कारण बन सकता है।
 

गुर्दे की पथरी में क्या जोखिम हो सकता है – What is The Risk in Kidney Stones

अगर किडनी स्टोन का इलाज सही समय पर ना किया जाए तो यह आगे जाकर स्वास्थ्य के लिए कई सारे जोखिम  दे सकता है जिनमें मुख्य जोखिम निम्न है :-
 

1. मूत्र वाहिनी का ब्लॉक होना – Urinary duct block (Utrise Blockage):-

गुर्दे की पथरी का इलाज अगर सही समय पर ना हो तो यह पथरी बढ़कर पेशाब के रास्ते को ब्लॉक कर सकता है  ऐसे में दर्द की वजह से पेशाब करना बहुत ज्यादा कष्टदायक हो जाता हैं।
 
 

2. संक्रमण का बढ़ना – Infection Progression :-

किडनी स्टोन की वजह से पेशाब में संक्रमण बढ़ने का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है इससे कई बार गुप्त अंगों में संक्रमण हो  जाता जो आगे जाकर बहुत घातक साबित हो सकता है।
 

3. किडनी का खराब होना – Kidney Failure :-

गुर्दे की पथरी का इलाज अगर समय रहते ना किया जाए तो इसके दुष्प्रभाव से किडनी भी खराब हो सकती है परंतु यह समस्या बहुत लंबे समय तक लापरवाही बरतने पर होती है सामान्यतः पथरी से किडनी पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता है।
 
 
 

गुर्दे की पथरी का इलाज – Treatment of Kidney Stones

1. देसी व घरेलू इलाज – Desi and Home Remedies :- 

गुर्दे की पथरी का शुरुआती इलाज देसी व घरेलू नुस्खे से किया जा सकता है ऐसी स्थिति में अपना खान-पान बदल करके पानी भरपूर पिए जिससे ज्यादा से ज्यादा पेशाब निकले और ऐसे में स्टोन टूटकर मूत्रमार्ग के द्वारा बाहर निकल जाये !
 

2. दवाई – Medicine :-

गुर्दे की पथरी में उपचार में दवाई भी बहुत फायदेमंद होती है यह दवाई पथरी को बढ़ने से रोकती है जिससे इसका इलाज बेहतर तरीके से हो सकता है।
 
 

3. थैरेपी लेना – Therapy :-

गुर्दे की पथरी के इलाज में थेरेपी लेना काफी फायदेमंद होता है क्योंकि थेरेपी का हमारे शरीर पर किसी भी तरह का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। लेकिन जानकारी के अभाव में लोग थेरेपी कम करवाते हैं इसमें समय जरूर लगता है लेकिन इससे बहुत फायदा होता है।
 

4. सर्जरी कराना – Surgery :- 

गुर्दे की पथरी का इलाज जब किसी भी तरीके से नहीं हो रहा हो तब डॉक्टर सर्जरी करने की सलाह देते हैं इस स्थिति में लेजर के जरिए उस स्टोन को वहीं पर तोड़ दिया जाता है और वह छोटे-छोटे टुकड़ों में बंट जाता है जो मूत्र मार्ग से शरीर से बाहर निकल जाता है।
सर्जरी एक सर्वोत्तम तरीका है लेकिन काफी लोग सर्जरी के नाम से डर जाते हैं और इसे एक महंगा इलाज समझते हैं। सर्जरी कराने की कीमत मात्र 20,000 से लेकर ₹100000 तक का खर्चा होता है और इसमें जोखिम ना के बराबर होता है।
 
 
 

गुर्दे की पथरी के बारे में पूछे जाने वाले सामान्य सवाल और उनके जवाब | Frequently Asked Questions about Kidney Stones and Their Answers (FAQ)

 

Q 1. किडनी स्टोन के शुरुआती लक्षण क्या होते है ?
What are The Initial Symptoms of Kidney Stone ?

A.    किडनी स्टोन के शुरुआत में पेट में दर्द कमर में दर्द पेशाब ठीक से नहीं लगना उल्टी आना जी मचलना कई बार पेशाब में खून आना इत्यादि शामिल है अगर ऐसे कुछ लक्षण आपको दिखे तो तुरंत डॉक्टर से सलाह करनी चाहिए ताकि समय रहते इसका इलाज प्रारंभ हो जाए।
 
 
 

Q2. क्या किडनी स्टोन का इलाज सर्जरी के बिना भी किया जा सकता है ?
Can Kidney Stone Be Treated Without Surgery?

A.    जी हां, समय रहते किडनी की पथरी के रोग को पहचान कर घरेलू दवाई नुस्खे और थेरेपी के द्वारा इसका इलाज संभव है डॉक्टर किसी भी व्यक्ति को सर्जरी करने की सलाह तभी देते  है जब स्टोन काफी बढ़ जाता है और अन्य तरीकों से निकल नहीं पाता है।
 
 
 

Q3. किडनी स्टोन को निकलने में कितना समय लग सकता है ?
How Long Can it Take to Remove a Kidney Stone ?

A.   किडनी स्टोन को निकलने में लगने वाले  समय का संबंध सीधा उसके आकार पर निर्भर करता है  अगर किडनी में स्टोन का साइज 5 से 6 एमएम तक का है तो वह कुछ ही दिनों या हफ्तों में थेरेपी और दवाइयों से खत्म हो जाता है परंतु अगर  इससे भी बड़ा है तो इसमें 1 से 2 महीने लग जाते हैं।
 
 
 

Q 4. गुर्दे की पथरी को कैसे निकाला जा सकता है ?
How can Kidney Stone Be Removed ?

A.    गुर्दे की पथरी यानी किडनी स्टोन को निकालने के लिए अधिक से अधिक मात्रा में पानी का सेवन करें थेरेपी व दवाइयों के साथ इसको प्राकृतिक तरीके से निकाल सकते हैं।

यह भी पढ़ें – Also Read It :

One thought on “गुर्दे की पथरी के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज व बचाव के घरेलू उपाय | Kidney Stone Types, Symptoms, Causes, Treatment, Prevention and Home Remedies

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

होली के त्योहार पर स्किन और बालों के लिए कुछ खास टिप्स | Some Special Tips for Skin and Hair on The Festival of Holi

Fri Mar 26 , 2021
होली का त्यौहार आने पर हर कोई इसके रंग बिरंगे रंगों में भीगना चाहता है और इस त्योहार को हर्षोल्लास से रंगों के साथ खेल कर मनाना चाहता है परंतु इस त्यौहार के रंग में रंगने से पहले और बाद में कुछ जरूरी घरेलू नुस्खों को अपनाकर आप अपनी त्वचा, बाल, नाखून […]
Skin, hair, nail care tips on holi

Latest Update