International Mother’s Day 2021 in Hindi | अंतरास्ट्रीय मातृ दिवस 2021

International Mother’s Day in Hindi 2021 | अंतरास्ट्रीय मातृ  दिवस 2021


International Mother's Day 2021 | अंतरास्ट्रीय मातृ  दिवस 2021


“माँ” एक ऐसा शब्द है जिसके बिना हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते।

“माँ” एक ऐसा शब्द है जिसे दुनिया का हर बच्चा अपने मुंह से इस दुनिया में आने के बाद सबसे पहले लेता है।

“माँ” के बिना जीवन की उम्मीद नहीं की जा सकती अगर माँ न होती तो हमारा अस्तित्व ही न होता|

“माँ” दुनिया का सबसे आसान शब्द है मगर इस नाम में भगवान खुद वास करते है।

“माँ” ये शब्द बड़ा अनमोल है। माँ शब्द ही नहीं बल्कि हमारे जीने का आधार है। बिना माँ के जीवन जीना बहुत मुश्किल है।

International Mother's Day 2021 | अंतरास्ट्रीय मातृ  दिवस 2021



पिता जी और माता जी इस दुनिया में भगवान के वो रूप हैं जो बिना किसी स्वार्थ के हमें पालते है, पढ़ाते लिखाते है, स्कूल कॉलेज भेजते है और हमेशा भगवान से यही मांगते हैं की हमारा बच्चे पर कोई आंच न आये और उसे हर कामयाबी मिले।


“माँ” अपने बच्चे से ज्यादा प्यार तो करती है मगर जब पता चलता है की बच्चा गलत रास्ते पर चल रहा है तो माँ एक गुरु की तरह उसे अपने पास बुला कर समझाती है और जरूरत पड़ने पर उसे दो हाथ भी लगा देती है। 
“माँ” से बढ़ कर इस दुनिया में कोई नहीं होता है और यदि माँ न हो तो ये दुनिया सुखा रेगिस्तान के बराबर है। माँ को कभी ठेस नहीं पहुंचानी चाहिये।
“माँ” ही ऐसी होती है जो बच्चे की हर स्थिति में बच्चे के साथ रहती है और उसका साथ देती है राह दिखाती है। 
“माँ” और भगवान में कौन बड़ा है ये सोच कर बड़ी असंजस में पड़ जाता हूँ, किसी के भी जीवन में एक माँ, सर्वश्रेष्ठ और सबसे महत्त्वपूर्ण होती है क्योंकि कोई भी उनके जैसा सच्चा और वास्तविक नहीं हो सकता। माँ हमेशा हमारे अच्छे और बुरे समय में साथ रहती है। 
“माँ” के लिए उनके बच्चे बहुत किमती होते है। अपने जीवन में दूसरों से ज्यादा वो हमेशा हमारा ध्यान रखती है और प्यार करती है। अपने जीवन मे वो हमें पहली प्राथमिकता देती है और हमारे बुरे समय में उम्मीद की रौशनी जला देती है। 
“माँ” लोग कहते है की भगवान दिखाई नहीं देता लेकिन मैं कहता हूँ की आप ही मेरे भगवान हैं, माँ मैं आपके लिए दुनिया की हर ख़ुशी को आपके चरणों में ला दूंगा बस आप हमेशा मेरे साथ रहना मुझे कहीं छोड़ कर मत जाना।
“माँ” शब्द सिर्फ कहने में एक अक्षर का हो सकता है लेकिन कैसे बताऊँ मैं इस एक अक्षर के शब्द में कुटुंब समाया हुआ है। लोगों के जीवन में सबसे अहम किरदार सिर्फ माँ का ही होता है। किसी भी व्यक्ति के इस संसार में आने पर सबसे पहले एक ही शब्द निकलता है “माँ”
“माँ” दुनिया की सबसे बड़ी गुरु होती है, सही गलत का अर्थ माँ बचपन से ही बताती है, माँ ही होती है जो सबसे ज्यादा प्यार करती है, माँ भगवान का दूसरा रूप होती है, माँ का कहना जो मान लेता है वो सच में कामयाब हो जाता है।
“माँ” कुछ नही है मेरे पास फिर भी बहुत कुछ हैं मेरे पास जब तक तुम मेरे साथ हो। इस दुनिया से तो क्या भगवान से भी लड़ जाऊंगा मैं तुम्हारे लिए….।
“माँ” का रिश्ता केवल माँ ही निभा सकती है। माँ वो हैं जो खुद साधारण साड़ी पहनती है लेकिन अपने बच्चों को नए कपड़े दिलाती है। माँ वो होती है जो हमें जीवन जीने का तरीका सिखाती है। माँ के बिना जीवन अधूरा है। माँ के लिए कुछ अगर कह सकूँगा तो किस्मत वाला मानूँगा अपने आप को।
“माँ” पर लिखा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा ? हमे कमेंट और शेयर कर के जरूर बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सर्वाइकल के दर्द से बचने के लिए अपनाये यह घरेलु उपाय | Follow These Home Remedies to Avoid Cervical Pain in Hindi

Sat May 9 , 2020
सर्वाइकल के दर्द से बचने के लिए अपनाये यह घरेलु उपाय | Follow These Home Remedies to Avoid Cervical Pain in Hindi सर्वाइकल एक ऐसा दर्द है जिसमें ना तो अच्छे से नींद आती है और ना ही सुकून मिलता है। ऐसे में परेशानियां बढ़ती ही जाती है लेकिन अब परेशान होने की जरूरत नहीं है आप कुछ […]
cervical-pain-treatment-exercise

You May Like

Latest Update